NDTV Gadgets 360 Hindi


Loading...
बदलती जीवनशैली ने दिल से जुड़ी बीमारियों के मरीजों की संख्या में इजाफा किया है। वहीं, ब्लड प्रेशर अब आम हो गया है। कभी इसे उम्र की कड़ी के रूप में देखा जाता था, लेकिन आज लोग 25-26 साल से ब्लड प्रेशर की समस्या से जूझ रहे हैं। यह बाद में हमारे दिल के लिए परेशानी का कारण बन जाता है। बाजार में कई ऐसे उपकरण हैं, जो सटीक रक्तचाप मापने का दावा करते हैं। आजकल रिस्टबैंड का भी काफी इस्तेमाल हो रहा है। कंपनियों का दावा है कि वे रक्तचाप को लगातार और सही तरीके से मापती हैं। इसके बावजूद लोगों का ब्लड प्रेशर मापने के पारंपरिक तरीके में विश्वास है। अब वैज्ञानिकों ने इसके लिए एक और तरीका खोज निकाला है।

टैटू ब्लड प्रेशर को मापने में सटीक और महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे हो सकता है। शोधकर्ताओं ने एक ‘इलेक्ट्रॉनिक टैटू’ विकसित किया है जिसे आराम से घंटों तक पहना जा सकता है। यह दावा किया जाता है कि यह वर्तमान में उपलब्ध सभी विकल्पों की तुलना में रक्तचाप को अधिक सटीक रूप से मापता है।

परियोजना के सह-नेताओं में से एक, देजी अकिनवांडे का कहना है कि रक्तचाप सबसे महत्वपूर्ण संकेतक है जिसे आप माप सकते हैं, लेकिन इसे क्लिनिक के बाहर हाथ में उपकरण के बिना मापना मुश्किल है। इलेक्ट्रिक टैटू इस काम को आसान बना सकते हैं।

News9live में है प्रतिवेदन इसमें कहा गया है कि एक पारंपरिक रक्तचाप परीक्षण एक विशिष्ट अवधि में रक्तचाप के स्तर को मापता है, जबकि एक इलेक्ट्रॉनिक टैटू सभी प्रकार की स्थितियों में निरंतर निगरानी की अनुमति देता है। यह तब भी काम करता है जब यूजर सो रहा होता है। व्यायाम करना या बहुत अधिक तनाव में होना। प्रोजेक्ट से जुड़े रूजबेह जाफरी का कहना है कि ब्लड प्रेशर मापने की कई सीमाएं हैं। दरअसल, यह नहीं बताता कि हमारा शरीर कैसे काम कर रहा है।

  Tata Motors will launch 4 new electric cars in India soon!

रिपोर्ट में कहा गया है कि बाजार में लाइट बेस्ड सेंसर वाली स्मार्टवॉच ब्लड प्रेशर मापने के लिए पूरी तरह तैयार नहीं हैं। इसका कारण यह है कि कलाई से घड़ी फिसल सकती है और डार्क स्किन में सेंसर को कुछ तकनीकी दिक्कतों का भी सामना करना पड़ता है। इलेक्ट्रॉनिक टैटू का मामला अलग है। यह हाथ में पूरी तरह से जुड़ा रहता है और हिलता नहीं है।

ब्लड प्रेशर को मापने के लिए टैटू की मदद से त्वचा में एक विद्युत प्रवाह डाला जाता है। यह सीधे हमारे खून तक पहुंचता है और सटीक परिणाम देता है। यह उपकरण 24 घंटे तक लगातार रक्तचाप की निगरानी कर सकता है। प्रोजेक्ट से संबंधित पेपर नेचर नैनोटेक्नोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ है। इस तकनीक को यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास की एक टीम ने विकसित किया है। उम्मीद है कि आने वाले समय में इससे ब्लड प्रेशर मापने का तरीका बदल जाएगा और लोगों को सटीक नतीजे मिल सकेंगे.

नवीनतम तकनीकी समाचार, स्मार्टफोन की समीक्षा अधिक लोकप्रिय गतिमान गैजेट्स 360 . पर विशेष ऑफ़र के लिए एंड्रॉयड ऐप डाउनलोड करें और हमें भेजें गूगल समाचार पर का पालन करें।

सम्बंधित खबर

By PK NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published.